महीनों की आशंका के बाद आखिरकार आईपीएल यूएई में शुरू हो गया। यह टूर्नामेंट पहले भी विदेशों में खेला जा चुका है, ऐसे में इसे झटका नहीं कहा जा सकता। लेकिन यह टीम के कॉन्बिनेशन को प्रभावित कर सकता है क्योंकि खिलाड़ियों का सिलेक्शन टूर्नामेंट के भारत में होने को लेकर किया गया था। कोविड-19 के कारण वेस्टइंडीज, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ियों के अलावा सभी अभ्यास से दूर थे। इसका भी प्रभाव पड़ेगा। इसके अलावा यूएई की गर्मी और ह्यूमिडिटी टीम और खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर असर डाल सकती है। मेरी नजर में यह सीजन पांच भारतीय खिलाड़ियों के लिए निर्णायक हो सकता है।
धोनी: हाल ही में इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लिया है। 40 की उम्र के नजदीक होने के कारण क्या वे लीग के लिए फिट हैं? क्या उनके पास अभी भी अपने बल्ले से मैच जिताने की क्षमता है? धोनी के लिए सबसे महत्वपूर्ण है उनकी कप्तानी। रैना-भज्जी के नहीं होने से वे अन्य खिलाड़ियों का कैसेे इस्तेमाल करते हैं, देखना होगा। इस सीजन में टीम का प्रदर्शन यह तय करेगा कि धोनी अगले सीजन में पीली जर्सी पहनेंगे या नहीं।
कोहली: अभी भी ट्रॉफी का इंतजार कर रहे हंै। हालांकि बल्ले से उनका प्रदर्शन शानदार रहा है और वे लीग के सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं। 2016 में टीम रनरअप रही। इसके बाद उसके प्रदर्शन में गिरावट आ रही है। 2017 और 2019 में टीम सबसे निचले पायदान पर रही। कोहली को बहुत कुछ साबित करना है।
अश्विन: आईपीएल के प्रदर्शन के बल पर इंटरनेशनल के लिए चुने गए। तीनों फॉर्मेट खेलने के बाद वनडे और टी20 टीम से बाहर हो चुके हैं। एक अच्छा सीजन उन्हें फिर से टीम में जगह दिला सकता है। पंजाब से हटने के कारण उन्हें कप्तानी नहीं मिली, क्योंकि श्रेयस अय्यर टीम की पहली पसंद हैं। अश्विन कप्तान और कोच रिकी पोंटिंग के साथ मिलकर टीम को कहां ले जाते हैं, इस पर उनका भविष्य निर्भर करेगा।
राहुल: अश्विन के जाने के बाद पंजाब के कप्तान बने। उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना होगा, क्योंकि टीम पहला आईपीएल खिताब जीतना चाहती है। राहुल की बल्लेबाजी क्षमता पर शायद ही किसी को संदेह हो। अब यह देखना है कि वे कप्तानी के बोझ से कैसे निपटते हैं। विभिन्न कौशल और स्वभाव वाले खिलाड़ियों का मैनेजमेंट कठिन हो सकता है। कई बेहतरीन खिलाड़ी ऐसा दबाव झेल चुके हैं। लेकिन यह एक ऐसा मौका भी है, जो भारतीय क्रिकेट में राहुल को ऊंचा उठा सकता है।
हार्दिक पंड्या: पंड्या की तीनों फॉर्मेट में वापसी इस बात पर निर्भर करती है कि वे इस आईपीएल में कैसा प्रदर्शन करते हैं। उनकी ऑलराउंड स्किल और आक्रामकता ही उन्हें मैच विनर बनाती है। उनके करिअर का ग्राफ ऊपर की ओर बढ़ता है, स्थिर रहता है या नीचे जाता है। वह इस बात पर निर्भर हैै कि मौजूदा सीजन में वे किस तरह का प्रदर्शन करते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Chennai's performance will decide whether Dhoni will wear yellow jersey or not


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/33EsPZI
Previous Post Next Post