आईपीएल के 13वें सीजन के 12 मुकाबले खेले जा चुके हैं।‌ सभी टीम को कम से कम एक-एक जीत और हार भी मिल चुकी है। ऐसे में किसी एक टीम का पलड़ा भारी है, ऐसा नहीं कहा जा सकता है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण इस बार टीमें न्यूट्रल वेन्यू यानी देश के बाहर खेल रही हैं। किसी भी टीम को होम एडवांटेज नहीं मिल रहा है। इस बार सभी 8 टीम को कम से कम एक मैच जीतने में 11 मैच लगे। पिछले सीजन में 28 मैच के बाद ऐसा हो सका था। सबसे कम 10 मैच बाद सभी टीम को एक-एक जीत जीतने का रिकॉर्ड भी घर के बाहर ही बना था। 2009 में दक्षिण अफ्रीका में लीग के मुकाबले खेले गए थे, तब ऐसा हुआ था। इतना ही नहीं अंतिम 4 ओवरों में 11.94 के रनरेट से गेंदबाज रन दे रहे हैं, जो अब तक खेले गए किसी भी टी20 टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा है

6 मैच में अंतिम 4 ओवर में 60 से अधिक रन बने मौजूदा सीजन के शुरुआती 12 मैच को देखें तो 6 मैच में अंतिम 4 ओवर में 60 से अधिक रन बने। ऐसा नहीं है कि गेंदबाजी कमजोर है। बुमराह और स्टेन के ओवर में भी 25 या उससे अधिक रन बने। पिछले पूरे सीजन में 6 बार एक ओवर में 25 या अधिक रन बने थे। इस बार अभी ही 6 बार ऐसा हो चुका। अंतिम 4 ओवर में औसतन 11.94 के रनरेट से रन बन रहे हैं। इस दौरान अब तक 70 छक्के और 74 चौके लग चुके हैं।

रणनीति में चूक: टाॅस जीत रहीं, पर मुकाबला नहीं जीत पा रही हैं टीमें

यूएई में दूसरी पारी में ओस को देखते हुए टीमें टाॅस जीतकर गेंदबाजी का फैसला कर रही हैंे। लेकिन यह फैसला भी सभी के लिए उल्टा ही साबित हुआ है। 11 बार टाॅस जीतने वाली टीमों ने गेंदबाजी का फैसला किया और सिर्फ दो ही मैच में उन्हें जीत मिल सकी है।

67 सबसे ज्यादा मौके बने कैच के दुबई इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम में। इसमें से लगभग 15 फीसदी यानी 10 कैच छूटे। तीनों मैदान में सबसे ज्यादा। शारजाह क्रिकेट स्टेडियम में 11 फीसदी कैच छूटे हैं।

11 फीसदी गेंद फेंकी है स्पिन गेंदबाजों ने पहले 12 मैचों के पावरप्ले में। पिछले चार सीजन में सबसे कम। 2018 में सबसे ज्यादा 33 फीसदी गेंद स्पिनर्स ने पावरप्ले में फेंकी थी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/30qTJU0
Previous Post Next Post