पहले बेटे की जन्म के समय मौत के बाद शिल्पा ने औलाद के लिए बड़ी मिन्नतें की। पांच साल बाद जब बिटिया का जन्म हुआ तो नाम रखा ट्विंकल। ट्विंकल जो किसी सितारे की तरह चमकती थी। घर के इस कोने से उस कोने तक दौड़ती रहती। उसे किसी एक जगह बिठाकर रखना मुश्किल होता। ढाई साल की उम्र में वो पांच साल के बच्चे की तरह बातें करती थी।

पापा, चाचा, दादा को जब वो दौड़कर गले लगाती तो सारी थकान दूर हो जाती। जब वो दुनिया की फिक्र में होते तो अपनी मीठी ज़बान में कुछ ऐसा मासूम सवाल पूछती कि वो सबकुछ भूल बस उसी के जवाब देने लग जाते।

अभी उसने स्कूल जाना शुरू ही किया था। मां उसे स्कूल छोड़ने जाती, उसका हाथ थामे-थामे अपना बचपन भी जी लेती। कॉलेज जाने, नौकरी करने के वो सपने फिर से देख लेती जो बचपन में देखे तो थे लेकिन पूरे ना हो सके थे। वो खुद तो बहुत ज्यादा नहीं पढ़ सकीं थीं लेकिन ट्विंकल को दुनिया की सबसे अच्छी शिक्षा देना चाहती थीं। ट्विंकल जब स्कूल की ओर भागती तो मां को लगता कि वो जरूर कुछ ना कुछ बनेगी।

ट्विंकल पेन पकड़ना सीख गई थी। अक्षरों पर पेन फिराने लगी थी। घर की दीवारों पर जहां तक उसके हाथ जाते वो कलाकारी कर देती। मां का डांटने का मन होता, लेकिन वो डांटने के बजाए मन ही मन हंसती। ढाई साल की इस मासूम की मौजूदगी ने घर को स्वर्ग बना दिया था। मां तो उसे नजर से ओझल ही ना होने देती। ट्विंकल अपने परिवार की पूरी दुनिया बन गई थी।

फिर एक मनहूस दिन ने परिवार की इस सबसे बड़ी खुशी को सबसे बड़ा गम बना दिया।

दिल्ली से करीब 90 किलोमीटर दूर अलीगढ़ जिले के टप्पल कस्बे में मई 2019 में ढाई साल की मासूम के साथ दुष्कर्म के बाद दरिंदों ने हत्या कर दी थी।

वो 30 मई 2019 का दिन था। ट्विंकल घर के बाहर खेल रही थी, जहां वो रोज खेलती थी। मां छोटे-मोटे काम में लगी थी। कुछ देर बाद ट्विंकल को देखा तो वो वहां नहीं थी। कोई दरिंदा इस घर के इकलौते फूल को नोच ले गया।

शिल्पा शर्मा को नहीं मालूम कि कौन उसे कब उठा ले गया। तीन दिन बाद दो जून को घर के पास एक खंडहर मकान में ट्विंकल की लाश मिली। सड़ी-गली। शरीर के कई अंग गायब थे। ऐसा लग रहा था जैसे उसे दरिंदगी करके फेंका गया है। उसकी लाश को देखने वालों का कहना है कि शायद उसे कुत्तों ने नोंच लिया था।

बेटी के साथ हुई इस दरिंदगी ने परिवार को तोड़ कर रख दिया। दिल्ली से करीब 90 किलोमीटर दूर अलीगढ़ जिले के टप्पल कस्बे में ढाई साल की मासूम के रेप और हत्या की खबर जैसे ही फैली लोगों में आक्रोश भड़क गया। जिसने सुना सन्न रह गया। ट्विंकल को इंसाफ दिलाने के लिए रैलियां निकलीं, प्रदर्शन हुए, मोमबत्तियां जलाई गई।

टीवी कैमरे ट्विंकल के घर पहुंच गए। उसकी रोती बिलखती मां को देश ने देखा। जिसने भी इस परिवार को देखा वो उनके गम में शामिल हो गया। लोगों में गुस्सा बढ़ता जा रहा था। सरकार इस गुस्से को समझ रही थी। घटना में शामिल संदिग्धों को तुरंत गिरफ्तार कर लिया गया। परिवार को छह महीने के भीतर इंसाफ दिलाने का वादा किया गया। सरकार के वादों की बौछार ने परिवार का गुस्सा शांत कर दिया।

मुझे याद है जब मैं ट्विंकल के घर गई थी उसकी मां शिल्पा शर्मा बेसुध पड़ी थी। रो-रोकर उनकी आंखें लाल हो चुकी थीं, चेहरा सूख गया था। उन्होंने मुझे उसके छोटे-छोटे सेंडल दिखाए थे। किताबें दिखाईं थीं, सहेजकर रखे खिलौने दिखाए थे। वो पेंसिल दिखाईं थी जिन्हें ट्विंकल के नन्हें-नन्हें हाथों को थामना था। उस मासूम ट्विंकल को देखकर ये यकीन करना मुश्किल था कि कोई इस फूल जैसी बच्ची से भी दरिंदगी कर सकता है।

इस घटना के विरोध में देशभर में प्रदर्शन हुए थे, लोगों ने कैंडल जलाकर इंसाफ की मांग की थी।

हाल ही में जब मैं ट्विंकल के घर पहुंची तो यहां एक नई दुकान के उद्घाटन का प्रसाद बंट रहा था। ट्विंकल के चाचा कपिल ने बताया, 'बीते डेढ़ साल से भैय्या बहुत परेशान रहते थे। उस डिप्रेशन से निकल ही नहीं पा रहे थे। ये छोटी सी दुकान खुलवाई है ताकि उनका मन काम में लग सके और वो उस दुख से बाहर आ जाएं।'

परिवार के लोग हंसने-बोलने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन शिल्पा शर्मा ने वही उदासी ओढ रखी थी। उनका चेहरा पहले से ज्यादा खाली था। अब उनका नजरिया सरकार और न्याय व्यवस्था के प्रति तीखा हो गया है।

दरअसल, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में रेप की पुष्टि ना होने की वजह से अदालत में बस ट्विंकल के कत्ल का मामला पहुंचा है। परिवार को भरोसा दिया गया था कि सुनवाई फास्टट्रैक अदालत में होगी, लेकिन ऐसा भी नहीं हो सका। बल्कि डेढ़ साल बीत जाने के बाद अभी तक इस मामले में गवाहों के बयान तक नहीं हो सके हैं। इस मामले में जाहिद, मेहंदी हसन और असलम नाम के तीन आरोपी जेल में है। शगुफ्ता नाम की महिला की जमानत हो गई है।

शिल्पा कहती हैं, 'मैं जब भी उस गली की ओर जाती हूं मेरा खून खौलने लगता है। जी करता है कि अपने हाथों से उस वहशी का कत्ल कर दूं। खून का घूंट पीकर रह जाती हूं। ये दर्द मुझे हर दिन झेलना पड़ता है।'

तारीख पर तारीख

शिल्पा शर्मा कहती हैं, 'सरकार इंसाफ को कोर्ट पर छोड़ देती है। कोर्ट कुछ नहीं करती। तारीख पर तारीख चलती जाती है। कभी तीन तारीख कभी चार तारीख। डेढ़ साल हो गया है मुक़दमा चलते हुए। हर बार तारीख पड़ती है फिर रद्द हो जाती है। हमें बताया जाता है कि इस दिन सुनवाई होगी। हम फिर पूछते हैं तो बताया जाता है कि सुनवाई आगे बढ़ गई है। डेढ़ साल से बस तारीख ही पड़ रही है, सुनवाई नहीं हो रही है।'

परिवार ने आज भी उस मासूम से जुड़ी हर एक चीज को संभाल कर रखा है।

सुनवाई में हो रही देरी पर सवाल करते हुए शिल्पा कहती हैं, 'हमसे कहा जा रहा है कि देरी कोरोना की वजह से हो रही है। सुशांत के मामले में तो देरी नहीं हो रही है। अदालत-सीबीआई सब लगे हैं। फिर हमारी बेटी के लिए ही कोरोना का बहाना क्यों। उसके दरिंदों को फांसी क्यों नहीं दी जा रही है। या सुशांत अलग थे और हमारी बेटी अलग है? इंसाफ तो सबके लिए बराबर होना चाहिए?'

पीड़िता के पिता बनवारी लाल शर्मा कहते हैं, 'पहले हमें मुकदमे को हाई कोर्ट और फास्ट ट्रैक कोर्ट में भेजने का आश्वासन दिया गया। बड़ी धाराएं लगाने का आश्वासन दिया गया। पहले पांच महीनों तक मुकदमा अदालत में पहुंचा ही नहीं। फिर कहने लगे कि कोरोना हो रहा है। हमसे कहा गया था छह महीने में इंसाफ मिलेगा। डेढ़ साल हो गया है, इंसाफ की झलक भी नजर नहीं आई है।'

इस मामले में परिवार के वकील का कहना है चार्जशीट दायर हो गई है और अब गवाहों के बयान होने हैं। बयान के लिए अदालत ने अगली तारीख दी है। इससे पिछली तारीख रद्द हो गई थी। एडवोकेट रामबाबू बताते हैं, पोस्टमार्टम में बच्ची के अंग ही नहीं मिले थे, डॉक्टर रेप की रिपोर्ट किस आधार पर देते। अब अदालत में कत्ल का मामला चल रहा है।

टप्पल की जिन गलियों में ट्विंकल को इंसाफ दिलाने के लिए रैलियां निकालीं गईं थीं वो अब शांत हैं। यहां सबकुछ सामान्य हो चुका है। यहां के लोगों के लिए ढाई साल की वो बच्ची अब बस धुंधली याद बन गई है।

हैदराबाद जैसे इंसाफ की मांग
शिल्पा शर्मा कहती हैं, 'मुझे सबसे अच्छा हैदराबाद कांड लगा है। वहां चारों के चारों मार दिए। अब हैदराबाद में कभी दोबारा इस तरह का कांड नहीं होगा। यूपी में हर दिन रेप की खबर आ रही है। जो हैदराबाद में हुआ है, यूपी में हो जाएगा तो ऐसी खबरें आना बंद हो जाएंगी। यदि सरकार के बस का इंसाफ करना नहीं है तो अपराधियों को जनता के बीच में छोड़ दें। जनता अपने आप सब संभाल लेगी।'

शिल्पा शर्मा ने वो अखबार सहेज कर रख लिए हैं जिनमें ट्विंकल से जुड़ी खबरें छपीं थीं। लेकिन, इनके पन्ने पलटते हुए उनके हाथ कांपने लगते हैं। ट्विंकल से जुड़ा हर सामान उन्होंने सहेज लिया है। मैं चाहती हूं कि उसके बारे में और बात करूं लेकिन कपिल मुझे रोक देते हैं। वो कहते हैं, 'घर में आज खुशी का दिन है। उसकी याद पूरे परिवार को रुला देगी।' ये कहते-कहते उनकी अपनी आंख में आंसू थे। उनके वॉट्सऐप स्टेटस पर अब भी बेटी की तस्वीर है और लिखा है, 'आई मिस माय एंजल।'

हाथरस गैंगरेप से जुड़ी आप ये खबरें भी पढ़ सकते हैं...

1. हाथरस गैंगरेप:12 गांवों के ब्राह्मणों-ठाकुरों ने गुपचुप लगाई पंचायत, फैसला लिया कि गैंगरेप के आरोपियों का साथ देंगे, गांव में किसी बाहरी को घुसने भी नहीं देंगे

2. गैंगरेप पीड़िता के गांव से रिपोर्ट:आंगन में भीड़ है, भीतर बर्तन बिखरे पड़े हैं, उनमें दाल और कच्चे चावल हैं, दूर खेत में चिता से अभी भी धुआं उठ रहा है

3. हाथरस गैंगरेप / पुलिस ने पीड़ित की लाश घर नहीं ले जाने दी, रात में खुद ही शव जला दिया; पुलिस ने कहा- शव खराब हो रहा था इसलिए उसे जलाया गया



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
Report from Hathras, Hathras Rape case, Aligarh Tappal Rape Case , Hathras gangrape


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/33ON1cC
https://ift.tt/30VP2Sm
Previous Post Next Post