पाकिस्तान में सरकार समर्थित आतंकी और वहां की खुफिया एजेंसी ISI चीन में बने ड्रोन का बड़े पैमाने पर उपयोग कर रही है। इनके जरिए सीमा पार भारत में हथियारों और ड्रग्स की तस्करी की जा रही है। आतंकी इसे हथियार की तरह प्रयोग करने की तैयारी में भी हैं। भारतीय खुफिया एजेंसियों की एक रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है।

रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली में आतंकरोधी अभियान से जुड़े अधिकारियों ने बताया है कि आतंकी समूह और आईएसआई छोटे पैमाने पर हथियारों की तस्करी करने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल कर रहे थे। लेकिन, हाल के दिनों में उन्होंने ड्रोन के आधुनिक वर्जन को खरीदा है। ये ड्रोन एक बार में बड़ी मात्रा में हथियार ले जाने में सक्षम हैं।

बर्फबारी में ड्रोन का सहारा

एक अधिकारी ने बताया कि जम्मू कश्मीर में एलओसी पर ऊंचे पहाड़ों और भारी बर्फबारी के कारण आतंकियों के लिए घुसपैठ करना आसान नहीं है। ऐसी स्थिति में कई ऐसी रिपोर्ट्स आईं हैं जिसमें कहा गया है कि आतंकी संगठन ड्रोन की मदद से पंजाब बॉर्डर के जरिए हथियारों की तस्करी कर रहे हैं। ताकि कश्मीर घाटी में उनकी आतंकी वारदातें जारी रहें।

अकेले पंजाब में ही 12 अगस्त से अब तक चीन में बने चार ड्रोन से भारी मात्रा में हथियार बरामद किए जा चुके हैं। इन रिपोर्ट के बाद बीएसएफ की ओर से कहा गया कि सीमा पर ड्रोन घुसपैठ का मुकाबला करने के लिए तकनीकी समाधान खोजे जा रहे हैं। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन एंटी-ड्राेन सिस्टम पर तेजी से काम कर रहा है।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
पंजाब में ही 12 अगस्त से अब तक चीन में बने चार ड्रोन से भारी मात्रा में हथियार बरामद किए जा चुके हैं।- प्रतिकात्मक फोटो


from Dainik Bhaskar /national/news/terrorists-preparing-to-use-drones-as-weapons-127970828.html
https://ift.tt/2Jq1pAI
Previous Post Next Post